भोले बाबा के ढोलक वाले भजन लिरिक्स (bhole baba ke dholak wale bhajan ): एक मनोरंजक और भक्तिपूर्ण गीत


भोले बाबा के ढोलक वाले भजन एक लोकप्रिय भक्ति गीत है जो भगवान शिव की महिमा का गान करता है। यह गीत अपनी सरल और आकर्षक भाषा के लिए जाना जाता है।

भोले बाबा के ढोलक वाले भजन एक मनोरंजक और भक्तिपूर्ण गीत है। यह गीत भगवान शिव की महिमा का गान करता है और हमें उनकी कृपा और प्रेम का अनुभव कराता है। यह गीत हमें खुश रहने और अपने जीवन में उमंग बनाए रखने के लिए प्रेरित करता है।

1. भोले बाबा के ढोलक वाले भजन लिरिक्स

bhole baba ke dholak wale bhajan

शिव शंकर तुम्हरी जटाओ से लिरिक्स-Shiv Shankar Tumhari Jataao Se Bhajan Lyrics

 

शिव शंकर तुम्हरी जटाओ से गंगा की धारा बहती है,
सारी श्रिस्टी इस लिए तुम्हे गंगा धारी शिव कहती है,
शिव शंकर, तुम्हरी जटाओ से…

भागी रथ ने अवान किया गंगा को धरा पे लाना है,
अपने पुरखो को गंगा जल से भव से पार लगाना है,
गंगा का वेद प्रबल है बहुत मन में संखा ये रहती है,
शिव शंकर, तुम्हरी जटाओ से…

 

भागी रथ ने तप गौर किया,
तुम को के परसन दयाल हुए,
गंगा का वेद जटाओ में तुम धरने को त्यार हुए,
विष्णु चरणों निकली गंगा शिव जता में जाके ठहर ती है,
शिव शंकर, तुम्हरी जटाओ से…

शिव जता से फिर निकली गंगा निरल धारा बन बहने लगी,
भागी रथ के पीछे पीछे गंगा,
फिर भागी रथ के पुरखो का कल्याण माँ गंगा करती है,
शिवशंकर-तुम्हरी जटाओ से….

 

 

2. भोले बाबा के ढोलक वाले भजन लिरिक्स

भोले तेरी जटा में बहती है गंग धारा भजन लिरिक्स – Bhole Teri Jata Me Bahati Hai Gang Dhara Bhajan lyrics
भोले तेरी जटा में बहती है गंग धारा

शंकर तेरी जटा में बहती है गंग धारा

काली घटा के अन्दर जिव दामिनी उजाला

शंकर तेरी जटा में बहती है गंग धारा

 

गले मुंड मल साजे शशि भाल में विराजे

डमरू निनाद बाजे कर में त्रिशूल धारा

भोले तेरी जटा में बहती है गंग धारा

 

त्रगतिन तेग राशी कटी बंध नाग फासी

गिरिजा है संग दासी कैलाश के निवासी

भोले तेरी जटा में बहती है गंग धारा

 

शिव नाम जो उच्चारे सब पाप दोष टाले

भक्तो के कष्ट हारी भव सिन्धु पार तारे

भोले तेरी जटा में बहती है गंग धारा

 

3. भोले बाबा के ढोलक वाले भजन लिरिक्स

आओ महिमा गाए भोले नाथ की भजन लिरिक्स – Aao Mahima Gaye Bhajan Lyrics
 

आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की
भोले नाथ की जय, शम्भू नाथ की जय
गौरी नाथ की जय, दीना नाथ की जय
आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की

मुख पर तेज है, अंग भभूती
गले सर्प की माला।
माथे चन्द्रमा, जटा में गंगा
शिव का रूप निराला॥
अन्तर्यामी, सबका स्वामी
भक्तो का रखवाला।
तीन लोको में बाट रहा है
ये दिन रात उजाला॥

जय बोलो, जय बोलो भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की
भोले नाथ की जय, शम्भू नाथ की जय
गौरी नाथ की जय, दीना नाथ की जय
आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की
हरी ओम नमः शिवाय नमो

पी के भंग तरंग में जब जब
भोला शंकर आए।
हाथ में अपने डमरू ले कर
नाचे और नचाये॥
जो भी श्रध्दा और भक्ति की
मन में ज्योत जगाये।
मेरा भोला शंकर उस पर
अपना प्यार लुटाये॥

जय बोलो, जय बोलो भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की
भोले नाथ की जय, शम्भू नाथ की जय
गौरी नाथ की जय, दीना नाथ की जय
आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की

भव पार लगते शिव भोले
बिगड़ी बनाते ये शिव भोले।
कष्ट निवारे ये शिव भोले
दुःख दूर करे ये शिव भोले॥

जय बोलो दीनानाथ की
जय बोलो गौरीनाथ की
जय बोलो बद्रीनाथ की
जय बोलो शम्भूनाथ की

है सबसे न्यारे शिव भोले।
है डमरू धरी शिव भोले।
भोले भंडारी शिव भोले।

जय बोलो दीनानाथ की
जय बोलो गौरीनाथ की
जय बोलो बद्रीनाथ की
जय बोलो शम्भूनाथ की

भव पार लगते शिव भोले
बिगड़ी बनाते शिव भोले।
कष्ट निवारे शिव भोले
दुःख दूर करे ये शिव भोले।

आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की


Leave a Comment